ज़िंदगी को

ज़रूरत में रखो

 खुवाहशों की तरफ

ना ले जाओ

 क्योंकि ज़रूरत

 फकीर की भी

पूरी होती है

और ख्वाहशें तो

 बादशाहों की भी

रह जाती हैं




 

 


 
                          
 
Sign Up for Our Newsletter
  Copyright © 2018 Sindhudhara. All Rights Reserved.Developed & Maintain by Sindhudhara.